नाते लाए पत्नी की हथियार से कर दी हत्या, साल भर पहले लाया था नाता करके

Updated on February 14, 2018 Crime
नाते लाए पत्नी की हथियार से कर दी हत्या, साल भर पहले लाया था नाता करके , Banswara "Wife's murder "

Banswara February 14, 2018 - बोरखाबर गांव का एक युवक करीब 1 साल पहले ही झालोद के फूलपुरा गांव से विवाहिता को नाते कर लाया। लेकिन, इतने कम समय में ही दोनों के बीच छोटी मोटी बातों पर कहासुनी होनी शुरू हो गई। सोमवार रात को भी कहासुनी हुई तो तैश में आकर पति ने पत्नी की हत्या कर डाली। 

यह घटना करीबी अांबापुरा थाना क्षेत्र के बोरखाबर गांव की है। जहां का हुका निनामा ने विवाद के बाद 42 साल की पत्नी वना निनामा के सिर पर हथियार से वार कर दिया। इससे वह घायल होकर नीचे ही गिर गई। इस दौरान ही मौत हो गई। हत्या के बाद आरोपी हुका भाग गया। उसके बाद से घर नहीं लौटा। इधर घर के सदस्य भी पुलिस और कार्रवाई के डर से भाग निकले। पुलिस और पड़ोसियों से मिली जानकारी के मुताबिक घटना रात 8.30 बजे की है। हुका काम से लौटा था, जिसके बाद किसी बात को लेकर पत्नी से विवाद हो गया। हालांकि परिजनों के किसी से भी बात नहीं होने के कारण पुलिस यह नहीं जान पाई है कि विवाद किस कारण हुआ था। 

इस हत्या के बाद अास पड़ौस को पता चलते ही सभी यहां जुट गए। इस बीच सूचना आंबापुरा थाना पुलिस को दी। थानाधिकारी नगेंद्रसिंह जाब्ता लेकर आए और घटनास्थल का मुआयना किया। इसके बाद शव को एमजी अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया। थानाधिकारी ने वना की हत्या की सूचना उसके पीहर पक्ष मठा थांदला और पहले के ससुराल फूलपुरा में दी। जो मंगलवार दोपहर को अस्पताल की मोर्चरी में पहुंचे। 

पहले से 6 बच्चों की मां थी 

घटना को लेकर आबापुरा थाने के हैड कांस्टेबल जगदीश ने बताया कि काफी सालों पहले वना का विवाह फूलपुरा गांव में दलसिंह पुत्र बदिया कटारा से किया था। जिसके 6 बच्चे थे। जिसमें 4 बेटियां और 2 बेटे। 2 बच्चियों की शादी हो गई। वना और हुका गुजरात में कहीं मजदूरी करते थे। जहां काम के दौरान वना और हुका में प्रेम-प्रसंग बढ़ गया। करीब 1 साल पहले वना और हुका ने शादी कर ली। हुका की पहली पत्नी भाग गई थी। घटना को लेकर हुका की मां ने बताया कि शाम को सब शांति से खाना खाकर बैठे थे। मैं भी बाहर आंगन में खांट लगाकर सो गई। अंदर वना और हुका में किसी बात को लेकर विवाद हो रहा था। थोड़ी देर में हुका वहां से भाग गया। जब अंदर आकर देखा तो वना खून से लथपथ जमीन पर लेटी हुई थी। जिसके बाद सूचना पुलिस को दी। 

आक्रोशित परिजनों से की पुलिस ने समझाइश 

मोर्चरी के बाहर ग्रामीणों से समझाइश करते आंबापुरा एसएचओ नागेंद्रसिंह। 

हत्या के ये कारण भी आए सामने 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 1 साल पहले वना को नाते लाने के दौरान हुका और दलसिंह के बीच 2 लाख बीच सहमति बनी थी। जो दलसिंह को देने थे। लेकिन, हुका इतनी राशि नहीं जुटा पाया। इस राशि को चुकाने के लिए कुछ दिनों पहले हुका ने नोतरा किया था, लेकिन इसमें 40 हजार रुपए ही एकत्र हो सके। जो दलसिंह को नहीं दे सका। रकम देने के दबाव में हुका तनाव में ही रहता था। इसी तनाव के बीच पति-पत्नी में झगड़ा हुआ और उसने वना की हत्या कर दी। इधर, माेर्चरी में पोस्टमार्टम से पहले भी दलसिंह और हुका के परिवार के बीच काफी देर समझाइश हुई, जिसमें बकाया राशि को जल्द से जल्द चुकाने पर बातचीत होती रही। इस दौरान 10 दिनों के भीतर राशि लौटाने की सहमति बनी, तब जाकर उसका शव का पोस्टमार्टम कराया गया। db