होम ख़बरे विडिओ इवेंट्स

बिछुए, चूड़ी, कंगन, सब पानी में डूब गए...

17 Sep 2019 08:06 am

घाेड़ी तेजपुर में पानी उतरने के बाद चूल्हा, बर्तन, कच्ची खाेली, सब पानी में डूब गए। िबछुए, चूड़ी, कंगन, राेली, सब पानी में डूब गए।। माटी की हांडी में रखे मेरे राजदुलारे के चूरन-चटनी, मीठी-गाेली, सब पानी में डूब गए।। समसामयिक मुद्दाें पर साहित्यिक पकड़ रखने वाले दिल्ली के दिनेश रघुवंशी की ये पक्तियां बाढ़ के हालात में टूटी उम्मीदाें अाैर दर्द काे बयां करती है। दाे दिन पहले दानपुर क्षेत्र में 10 इंच बारिश के बाद कई परिवाराें की एेसी स्थिति बन अाई। कई कच्चे मकान पानी में बह गए। गुमटियाें अाैर केबिनाें में चल रहे परिवार एकाएक सड़क पर अा गए। यह तस्वीर घाेड़ी तेजपुर की तुलसी यादव के परिवार की है। बेटे की माैत हादसे में हाेने के बाद केबिन में बसाई छाेटी सी साैंदर्य सामान की दुकान ही बहू अाैर उसके दाे बच्चाें का पेट पालने का जरिया थी। तेज प्रवाह में पानी ने अपना दायरा लांघा ताे पाल पर बनी उनकी केबिन का पता ही नहीं चला। पानी उतरा ताे किनाराें पर कुछ अरमान बिखरे पड़े थे। लगा जैसे ये पानी के थपेड़ों से लड़कर परिवार का खाेया साैंदर्य फिर से लाैटाने अाए हाे। इस हालात काे बयां करने के लिए एक दर्द की जरूरत थी। 

शेयर करे