Home News Business

बच्चा चोर समझ 6 बहरूपियों और 4 फेरी वालों को लात-घूंसों से पीटा, भीमपुर चौकी में घुसे, कांच फाेड़े

बच्चा चोर समझ 6 बहरूपियों और 4 फेरी वालों को लात-घूंसों से पीटा, भीमपुर चौकी में घुसे, कांच फाेड़े
@hellobanswara -
Pukaar Foundation

पालोदा में महिला के भेष में बच्चों को अगवा करने की घटना के बाद ऐसी पूरी गैंग होने की अफवाह से शनिवार को 10 निर्दोषों पर भीड़ का कहर टूटा। बिना कोई कारण जाने लोगों ने फेरी करने वाले और अंबाजी यात्रा पर निकले युवकों को बुरी तरह पीट डाला। इनमें 2 बालक भी शामिल है। ग्रामीणों को संदेह इसलिए हुआ कि युवक महिला के भेष में थे और एक दिन पहले ही पालोदा में बच्चे को अगवा करने की कोशिश करने वाला बदमाश भी महिला के भेष में था। इसी गफलत और अफवाह के चलते भीड़ ने डांगपाड़ा में 3, सुंदनी में एक साधु और भीमपुर में 3 जनों से भीड़ ने मारपीट कर कपड़े फाड़ दिए। घटना के बाद पुलिस ने लोहारिया में 5 युवकों को गिरफ्तार किया। वहीं लोहारिया और सदर थाने में बलवा, मारपीट और वाहन को नुकसान पहुंचाने के आरोप में अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है।  

दरअसल, पालोदा में एक दिन पहले महिला के भेष में आए बदमाश ने एक बच्चे को अगवा करने की कोशिश की थी। इसके बाद सोशल साइट पर अफवाह फैली कि बांसवाड़ा में बच्चों को अगवा करने वाली गैंग सक्रिय है। इसी बीच भवानी मंडी झालावाड़ से गोविंद पुत्र लालचंद भांड, कालूराम पुत्र लक्ष्मण भांड, सुल्तान पुत्र लालचंद भांड, मुकेश पुत्र कल्याण भांड, कमलेश पुत्र कालूराम भांड और मंदसौर के श्यामगढ़ का भोला पुत्र पप्पू 3 बाइक पर अंबाजी के लिए निकले। पीड़ित युवकों ने पुलिस को बताया कि वह खर्चा निकालने के लिए बहरुपिये बनकर गाना-बजाना करते है। चिड़ियावासा में तीन जनों को और डांगपाड़ा में तीन जनों को भीड़ ने पकड़ बुरी तरह पीट दिया। भीड़ के कारण हाइवे पर जाम के हालात बन पड़े। इत्तला पर पुलिस बल मौके पर पहुंचा और सभी 6 जनों को सदर थाने ले जाया गया। गुस्साई भीड़ पीछे-पीछे थाने भी पहुंच गई। थोड़ी देर बाद एसपी केसरसिंह शेखावत भी पहुंचे और संदिग्धों से पूछताछ की। 

तीन संदिग्ध पकड़े तो भीमपुर चौकी पहुंचे लोग, बोले- हमें चेहरा दिखाओ  
गनोड़ा में सुबह 10 बजे के करीब 2 बालक व्यापारियों से रुपए मांग रहे थे। व्यापारियों ने उन्हें पकड़ आधार कार्ड मांगा। इस पर बालकों ने उनके चाचा के पास होना बताया। व्यापारियों ने बालकों को भगा दिया तो वह भीमपुर पहुंचे। जहां लोगों को भ्रम हुआ कि यह बच्चे पकड़ने वाली गैंग के बदमाश है। दोनों बालकों और उनके साथ मौजूद युवक को भीड़ ने पकड़ पीटा। माहौल गर्माया तो भीमपुर पुलिस चौकी से दल पहुंचा और तीनों को चौकी पर ले गया। लेकिन, गुस्साई भीड़ चौकी पहुंची और तीनों के चेहरे दिखाने की मांग करने लगी। भीड़ बढ़ती देख लोहारिया थानाधिकारी चेलसिंह मौके पर पहुंचे। मोटागांव से भी जाब्ता बुलाया गया। दोपहर 12 बजे तक डिप्टी ताराराम बैरवा भी पहुंचे। भीड़ ने चौकी की खिड़की कांच फोड़ दिया। तीनों संदिग्धों को दो पुलिस जीप में लोहारिया थाने ले जाया गया। पकड़े गए तीनों संदिग्ध उत्तरप्रदेश के महुआ बोझ निवासी 13 वर्षीय मौसम महावत, 30 वर्षीय छोटू महावत पुत्र राजाराम और अमेठी अमरेली निवासी 12 वर्षीय बबलू पुत्र मिस्त्री गोजी है। डांगपाड़ा के पास डेरा है। 25 दिन से बांसवाड़ा में ही है। पहले कॉलेज मैदान में रहते थे। वहां मेला लगने पर हटा दिया था। इसी बीच सुंदनी कस्बे में भी बस स्टैंड के पास एक बाबा को ग्रामीणों ने पकड़ लोहारिया पुलिस के हवाले किया। इसके बाद चिड़ियावासा में इन युवकों के डेरे हटवाया गए। लोहारिया पुलिस ने प्रफुल जैन, नितीन जैन, मनीष वैष्णव, पुष्पेंद्र सिंह और जगजी पाटीदार को गिरफ्तार किया है।  
 

अफवाह फैलाने वालों पर होगी कार्रवाई: एसपी  
बच्चों को अगवा करने वाला कोई गिरोह नहीं है। यह महज कुछ शरारतियों द्वारा फैलाई गई अफवाह है। इस तरह बिना किसी वजह पीटना सही नहीं है। ऐसी करतूत करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। 5 शरारती युवकों को गिरफ्तार किया है। वहीं भीड़ के खिलाफ भी केस दर्ज किया है। अगर कोई संदिग्ध नजर आता है तो संबंधित पुलिस को पहले सूचना देनी चाहिए। इस तरह कानून हाथ में लेने का किसी को अधिकार नहीं है। केसरसिंह शेखावत, एसपी  
 

शेयर करे

More news

Search
×