Home News Business

पुलिस ने बड़ी कार्यवाही करते हुवे दोनों चचेरे भाइयों को बदमाशों के चंगुल से छुड़ाया

पुलिस ने बड़ी कार्यवाही करते हुवे दोनों चचेरे भाइयों को बदमाशों के चंगुल से छुड़ाया
@hellobanswara -
Pukaar Foundation

होली के दिन दो चचेरे भाई बरोड़ा का संदीप पुत्र वासू और गौरव पुत्र लक्ष्मण के साथ 21 मार्च को बाइक पर घूमने निकला इस दौरान दोनों चचेरे भाइयों को  बाइक पर बिठाकर कुछ बदमाशों ने अगवा कर सोनाखोरा के जंगल में ले गए और वहां पर लेजाकर बुरी तरह पीटा और फिर बदमाशों ने मोबाइल से उनके परिजनों को कॉल कर 20 हजार रुपए की फिरौती मांगी। फिरोती नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद कॉलर ने कॉल काट दिया। इसकी जानकारी पुलिस को दी तो पुलिस ने तलाशकर रात को दोनों भाइयों को बदमाशों के चंगुल से छुड़ा लिया। एक आरोपी कुंवानिया का मनोहर पुत्र प्रभु पुलिस गिरफ्त में आ चुका है।

घबराए परिजनों ने थानाधिकारी भैयालाल आंजना को जाकर सबकुछ बताया। इस पर थानाधिकारी ने संदीप को कॉल लगाया तो उसने सागवाड़ा होना बताया, लेकिन सीआई को संदेह हुआ कि शायद अपहरणकर्ताओं के दबाव में संदीप झूठ बोल रहा होगा। इस पर मोबाइल लोकेशन ट्रैस कराई तो कुंवानिया में मिली। इस पर पुलिस का शक बढ़ा तो फिर बदमाशों को पकड़ने के लिए जाल बिछाया। पुलिस ने परिजनों से कहा कि बदमाश जैसे कह रहे हैं वैसे ही करे। बार-बार काका विमलनाथ के मोबाइल पर बदमाश कॉल कर रहे थे। पुलिस ने बदमाशों को फंसाने के लिए विमलनाथ के जरिये 20 हजार रुपए लेने के लिए सेनावासा बसस्टैंड के समीप बुलाया। तब तक रात के करीब 10 बज चुके थे। विमलनाथ बैग लेकर मौके पर इंतजार करने लगा। कुछ दूरी पर सादे कपड़ों में पुलिस जवान भी निगरानी लगाए हुए थे। थोड़ी देर बाद बाइक सवार तीन युवक विमलनाथ के पास आए और रुपए मांगने लगे। इसे देख पुलिस ने तीनों युवकों को घेर लिया। हालांकि, मौके से भाग निकले। 

पकडे गया आरोपी मनोहर से पूछताछ में बताया कि संदीप और गौरव को उसने उसके साथी भंवरवोड़ निवासी शंभु, सुनील, कल्लू और दिनेश के साथ मिलकर सेनावासा से बाइक सहित अगवा कर सोनाखोरा जंगल ले जाकर बंधक बना दिया। फिर क्या शातिर मनोहर ने पुलिस को खूब दौड़ाया। मनोहर पुलिस को जंगल में तो ले गया लेकिन जहां दोनों युवकों को बंधक बनाकर रखा था उस जगह ले जाने की बजाय पुलिस को 10 से 15 किमी इधर-उधर भटकाता रहा। आखिर घंटों बाद मनोहर पुलिस को भूंगड़ा के एक सरकारी स्कूल ले गया। जहां पुलिस ने रेड कर दोनों भाइयों को छुड़ाया। हालांकि अंधेरे का फायदा उठाकर बाकि बदमाश मौके से भाग निकले। 

शेयर करे

More news

Search
×