Home News Business

बालमुकुन्द चौक पर देर रात तक फागोत्सव की धूम

बालमुकुन्द चौक पर देर रात तक फागोत्सव की धूम
@hellobanswara -
Pukaar Foundation

शहर के किशनपोल तेलीवाड़ा स्थित बालमुकुन्द चौक पर रंग पंचमी पर फागोत्सव मनाया ।

शहर के बालमुकुन्द चौक, बालमुकुन्द गणेश मण्डल तेली समाज द्वारा सोमवार को देर रात तक फागोत्सव के पावन अवसर पर भव्य फागोत्सव का आयोजन किया गया । जिसमें शहर के सभी धर्मानुरागी भक्तों ने भाग लिया व फाग भजनों का भरपुर आनंद लिया ।

पण्डाल में जैसे ही श्री बालमुकुन्दजी भगवान की पदरावनी हुई तो सभी भक्तजन भाव विभोर हो गये । ढ़ोल नगारें, पुष्प वर्षा, शंखनाद व जयकारों के साथ युवाओं भगवान की पदरावनी की गई । इसके पश्चात दीप प्रज्वलन, गणेश वंदना अरे सुमिरन करु पहले गजानन्द को सुमिरन करु के साथफागोत्सव का प्रारंभ किया गया ।

इसके साथ ही बालमुकुन्द गणेश मण्डल द्वारा श्री राधावल्लभ मण्डल एवं हरिऊँ सत्संग मण्डल का स्वागत, वंदन एवं अभिनंदन के साथ ही फाग के भजनों की शुरुआत की गई । मारों खो गयो नवलखा हार ओ रसिया होरी में, रंग भरी रंग भरी रंग सु भरी, होरी आई होरी आई रंग सु भरी’’, आजबिरज में होरी रे रसिया, होरी के रसिया, तेरे नैनो में मारी पिचकारी, होरी खेलने आए बालमुकुन्द, भरोसा आपका गुरुदेव संभालों ना करो देरी, साथ अगर गुरुवर का हो तो नाम और इज्जत क्या मांगे, होरी खेले नन्दलाला बिरज में नन्दलाला, राधे श्याम सपनों में आये, बालमुकुन्द तेरा ऐसान होगातेरा ऐसान होगा आदि भजनों के साथ सुंदर प्रस्तुति दी जिसमें भक्तों ने देर रात तक फाग भजनों का बालमुकुन्दजी के सानिध्य में भरपुर आनंद लिया एवं भक्तों ने अपने जीवन को भगवान की होरी से रंग डाला ।

फागोत्सव में उड़ा सैकड़ों किलो पुष्प, अबीर व गुलाल

फागोत्सव के अवसर पर बालमुकुन्द चौक पर बालमुकुन्दजी के साथ भक्तों ने होली खेली । इस दौरान 100 किलो गुलाब पुष्प, 100 किलो गुलाल, इत्र एवं होरी भजनों द्वारा बालमुकुन्दजी भगवान को रिझाया गया । फागोत्सव में पुरुष, महिलाएं, युवा एवं बच्चों ने बड़े ही जोश के साथ भरपुरआनंद प्राप्त लिया । जिसमें भजनों पर उपस्थित लोग भी भक्ति में मगन होकर जमकर नृत्य किया। इस मौके पर बालमुकुन्दजी का विशेष श्रंगार किया गया, जो भक्तों के बीच आकर्षण का केन्द्र रहा। गुलाब के फूल की पत्तियों के रंग, श्रद्धा के साथ खुशबु से सारा वातावरण भक्तिमय हो गया।भक्तजन पुरूष, महिला, बालक व बालिकायें मीठे-मीठे भजनों में इतना रम गये कि भक्तजन अपने आप को रोक नहीं सके और श्रद्धा के साथ नाचने लग गये। हर भक्त ने बालमुकुन्द के दरबार में गुलाब के फूलों की पतियों के साथ होली खेलते हुये भजनों में रम कर नाच कर श्री बालमुकुन्द केइस होली फागोत्सव का आनन्द के साथ धर्म का लाभ लिया। कार्यक्रम में मौजूद लोग भजनों व गीतों पर जमकर थिरके। उन्होंने बताया यहां आकर ऐसा लगा जैसे गोकुल वंृदावन में बैठे हों।

फाग भजनों के पश्चात देर रात 12.15 बजे भगवानश्री को ‘‘ऐ तमे जमवा पधारो मारा लाल’’ भोग लगाया गया एवं भोग के पश्चात भगवानश्री की आरती की गई । आरती के पश्चात् प्रसाद वितरण के साथ ही फागोत्सव का समापन किया ।

शेयर करे

More news

Search
×