सरकारी स्कूल के शिक्षक ने खाया विशाख्त पदार्थ, इलाज के दौरान मौत

Updated on April 23, 2019 Crime
सरकारी स्कूल के शिक्षक ने खाया विशाख्त पदार्थ, इलाज के दौरान मौत, Banswara " चुनाव का प्रशिक्षण के दौरान सरकारी स्कूल के शिक्षक ने खाया विशाख्त पदार्थ, इलाज के दौरान मौत"

बाँसवाड़ा शहर के लोढ़ा स्थित न्यू लुक स्कूल में लोकसभा चुनाव का प्रशिक्षण चल रहा था। इस दौरान शिक्षक ने जहर खाया। जिसके बाद शिक्षक के मुँह से झांक निकलने लगा जिस पर अन्य शिक्षकों ने शिक्षक को एमजी हॉस्पिटल में भर्ती करवाया। जिस पर इलाज के दौरान शिक्षक की मौत हो गई।

मृतक 50 वर्षीय अमरसिंह पुत्र मनोहरी मीणा मूल रूप से करौली जिले के गाजियाबाद क्षेत्र का रहने वाला था। अमर हाल में छोटी सरवन सीनियर सैकंडरी स्कूल में बतौर शिक्षक कार्यरत था। खुदकुशी की वजह अभी साफ नहीं हो पाई है।

साथी शिक्षकों का मानना है कि अमर कुछ समय से तनाव में था और प्रशिक्षण के दौरान भी कई बार घर आना-जाना किया। शिक्षक साथी प्रहलाद सिंह ने बताया कि अमर सिंह शनिवार को अपने करौली घर गया था जो रविवार चुनाव की ट्रेनिंग के समय ही वापस लौटा था, लेकिन रात को जब फोन किया तो फोन बंद था। बताया कि पिछले कई समय से शिक्षक तनाव में चल रहा था। चुनाव में ड्यूटी लगने के बाद से बीच में दो बार घर गया। इससे पहले भी 15 अप्रैल को घर गया और उसके अगले ही दिन 16 अप्रैल काे वापस आ गया। ऐसे बार-बार घर जाना और वापस आने की वजह पर उन्होंने बताया था कि पत्नी बीमार है। पिछली बार भी ऑपरेशन हुआ था। इस वजह से घर जाना पड़ रहा है। ऐसे में ऐसा माना जा रहा है कि शायद चुनाव में ड्यूटी लगने से अवकाश नहीं मिलने या घरेलू व्यस्तता के चलते तनाव की वजह से यह कदम उठाया। लेकिन, परिजनों ने घर में किसी के बीमार होने और अमर के तनाव में होने से भी साफ इनकार कर दिया है। ऐसे में सवाल यह उठ रहा है कि आखिर अमर ने खुदकुशी क्यो की और वह भी प्रशिक्षण के दौरान। असल वजह परिजनों के बांसवाड़ा पहुंचने और जांच के बाद ही सामने आ पाएगी।

न्यू लुक स्कूल में सुबह 10 से 1 बजे का सेशन प्रशिक्षण हुआ, जिसमें अमरसिंह ने भाग लिया। लंच के समय उसे अचानक उल्टी होने लगी और नीचे गिर गया। वहां मौजूद मेडिकल टीम ने प्राथमिक उपचार कर उसे तुंरत एमजी अस्पताल पहुंचाया। जहां डॉक्टर ने जांच के बाद उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों के आने तक पुलिस ने मौका पर्चा बनाकर शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में रखवा दिया।


इस पूरे घटनाक्रम के पीछे संशय पैदा करने वाली यह बात है कि आखिर शिक्षक ने प्रशिक्षण के दौरान की कीटनाशी क्यों खाया। अगर काेई पारिवारिक समस्या थी ताे वाे वह घर पर भी खुदकुशी कर सकता था। इस बात की भी चर्चा रही कि शिक्षक घर जाना चाहता था। पारिवारिक कारणों से वह तनाव में था लेकिन छुट्टी नहीं मिली होगी, जिस वजह से ऐसा कदम उठा लिया हो। बिना छुट्टी के घर जाना, फोन बंद आना, ट्रैनिंग के दौरान जहर पीना ये ऐसे सवाल हैं, जाे शिक्षक की खुदकुशी के कारण को अनसुलझा कर रहे हैं।

परिजनों का इंतजार: घटना की सूचना मिलते ही मृतक के परिजन बांसवाड़ा के लिए निकल गए। मृतक के भाई रघुवीर मीणा से बात करने पर ज्यादा कुछ नहीं बताते हुए सिर्फ इतना ही बताया कि ऐसी कोई बड़ी समस्या नहीं थी। उनको कोई डिप्रेशन भी नहीं था। ये सब कैसे हुआ इसका कुछ भी पता नहीं चला। वहां आने के बाद ही कुछ कह पाएंगे।

17 अप्रैल से अनुपस्थित था  
सीनियर सैकंडरी स्कूल के पीओ सुरेश राजाेला ने बताया की अमर सिंह 16 अप्रैल काे स्कूल आए थे। इसके बाद 17 अप्रैल से बिना सूचना के अनुपस्थित थे। वहीं इनके साथियों ने बताया कि रात के समय फोन लगाने की काेशिश की, लेकिन उनका फोन बंद आ रहा था।

जांच कराई जाएगी : इधर, इस मामले में अतिरिक्त जिला कलेक्टर राजेश वर्मा ने बताया कि शिक्षक की छुट्टी के लिए कोई एप्लीकेशन नहीं आई थी। यह डीईओ स्तर का मामला था। प्रशिक्षण भी लिया था लेकिन ड्यूटी के दौरान खुदकुशी किस वजह से की। इसकी जांच कराई जाएगी। 



×
Hello Banswara Open in App