Banswara HelloBanswara
Business

December, 2018

SunMonTueWedThuFriSat
2
3
4
5
6
8
9
10
11
12
13
14
15
16
17
18
19
20
21
22
23
31

Event List

holi
वर्ल्ड एड्स डे
01-12-2018

WORLD AIDS DAY

 

World AIDS Day is held on the 1st December each year and is an opportunity for people worldwide to unite in the fight against HIV, show their support for people living with HIV and to commemorate people who have died. World AIDS Day was the first ever global health day, held for the first time in 1988.

WHY IS WORLD AIDS DAY IMPORTANT?

Over 100,000 people are living with HIV in the UK. Globally there are an estimated 34 million people who have the virus. Despite the virus only being identified in 1984, more than 35 million people have died of HIV or AIDS, making it one of the most destructive pandemics in history.

Today, scientific advances have been made in HIV treatment, there are laws to protect people living with HIV and we understand so much more about the condition. Despite this, each year in the UK around 6,000 people are diagnosed with HIV, people do not know the facts about how to protect themselves and others, and stigma and discrimination remain a reality for many people living with the condition.

World AIDS Day is important because it reminds the public and Government that HIV has not gone away – there is still a vital need to raise money, increase awareness, fight prejudice and improve education.

WHAT SHOULD I DO ON WORLD AIDS DAY?

World AIDS Day is an opportunity to show support to and solidarity with the millions of people living with HIV. Wearing a red ribbon is one simple way to do this. Find out where you can get a red ribbon.

World AIDS Day is also a great opportunity to raise money for NAT (National AIDS Trust) and show your support for people living with HIV. If you feel inspired to hold an event, such as a bake sale, or simply sell red ribbons, visit our fundraising page. If you’d like to see events that others are holding please visit our events page.

BUT WHAT ABOUT AFTER WORLD AIDS DAY?

Although World AIDS Day is a great opportunity to talk about HIV, it is important to keep the momentum going all year round. Sign up to NAT's newsletter which will keep you up to date with all the new developments in HIV and the work of the National AIDS Trust, or visit our website, HIVaware, for more information.

Completed
holi
विधान सभा चुनाव 2018
07-12-2018

इस साल राजस्थान में विधानसभा चुनाव 7 दिसम्बर को है और राज्य में यह चुनाव सत्ताधारी भाजपा और कांग्रेस के लिए काफी मायने रखता है। साल 2013 में हुवे चुनाव में भाजपा ने एक बड़ी जीत हासिल की थी।

इसी प्रकार बाँसवाड़ा जिले में भी बागीदोरा विधानसभा क्षेत्र को छोड़कर बाकि सभी 4 सीटों पर भाजपा ने कब्ज़ा जमाया था।

 

चुनाव आयोग ने राजस्थान विधानसभा चुनाव की तारीख की घोषणा कर दी है। चुनाव आयोग के अनुसार, राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों पर 1 चरण में 7 दिसंबर तक चुनाव का आयोजन कराया जाएगा| वहीं वोटिंग की नतीजे 11 दिसंबर को बताए जाएंगे।

 

राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018

राजस्थान में एक चरण में 7 दिसंबर को वोटिंग, 11 दिसंबर को मतगणना और नतीजे


राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018

नोटिफिकेशन : 12 नवंबर

नॉमिनेशन की आखिरी तारीख : 19 नवंबर

नॉमिनेशन की स्क्रूटनी : 20 नवंबर

नॉमिनेशन वापसी की आखिरी तारीख : 22 नवंबर

वोटिंग : 7 दिसंबर

रिजल्ट : 11 दिसंबर

Completed
holi
क्रिसमस
25-12-2018

25 दिसम्बर को प्रभु यीशु मसीह क्राइस्ट के “जन्म उत्सव” Christmas के रूप में मनाया जाता है.  इसे “बड़ादिन” भी कहते है . विश्व के अन्य इसी धर्मावलाम्बिया के साथ भर के इसी भी इस त्यौहार को प्रतिवर्ष 25 दिसंबर के दिन धूम धाम से मानते है.

वैसे ये त्यौहार ईसा मसीह के जन्म के बाद की दो शताब्दियों तक क्रिसमस मानाने का चलन नहीं था और उसके बाद प्रभु यीशु के जन्मदिन को मनाया जाने लगा। परन्तु विभिन्न देशों के इसी संत व पादरीगण इस पर्व को एक सुनिश्चित तिथि को मनाये जाने के विषय में एकमत नहीं हो पाए थे. पर कुछ समय पश्यात 25 दिसम्बर के दिन क्रिसमस मनाया जाना तय हुवा।

क्रिसमस के दिन प्रत्येक इसी अपने घर को साफ़-सुथरा कर सजाता-संवारता है, गिरजाघरों में रंग-बिरंगी पताकाओं और प्रकाश व्यवस्था के बिच सामूहिक प्रार्थना  करते है. इस अवसर पर अपने घर में क्रिसमस ट्री लगता है. इसाईगण सर की टहनियों से निर्मित एक पेड़ की आकृति पर जगमग प्रकाश की व्यवस्था करते है. इस सजे-संवरे पेड़ पर मोमबत्ती भी जलाई जाती है.
इस दिन संता क्लाज जिन्हें फादर क्रिसमस कहा जाता है. इनका इंतज़ार बच्चे उपहार के लिए करते है. 

पलिशतिन (इजराइल) देश के यहूदा प्रान्त के बेतलहम नामक ग्राम में प्रभु यीशु मसीह का जन्म हुआ. प्रभु यीशु क्राइस्ट (lord Jesus Christ ) के जन्म की भविष्यवाणी हजारो वर्ष पूर्व की गई थी. प्रभु क्राइस्ट का जन्म  अदभुत था. संसार के नियम उन पर किसी प्रकार से लागु नही होते है. प्रभु यीशु मसीह का जन्म बेतलहम की गोशाला में बेलों की चरनी में हुआ. वहां एक Church है प्रभु यीशु Christ के जन्म के समय एक अदभुत तारा दिखाई दिया. पूर्व से कई ज्योतिषी (विद्वानों पुरुष ) आकार पूछने लगे की “यहूदियो के राजा“ जिनका जन्म हुआ है कहा है. वै हेरोदेस राजा के महल में आकर पूछने लगे. यह सुनकर हेरोदेस राजा और उसके साथ सभी घबरा गए. तब उसने लोगो के सब प्रधान शास्त्रियों को इक्कठे करके उनसे पुछा मसीह (Christ ) का जन्म कहा होना चाहिए? उन्होंने उससे कहा यहूदियों के बेतलहम में. राजा हेरोदेस इसलिए घबराया क्योंकि उसका सिंघासन हिल गया था. उसके स्थान पर नया राजा बेठेगा. तब हेरोदेस ने ज्योतिषियों (विद्वान् पुरुषो ) को चुपके से बुलाकर उनसे पूछा की तारा ठीक किस समय दिखाई दिया था. उसने यह कहकर उन्हें बेतलहम बेजा “ जाओ उस बालक के विषय में ठीक-ठाक मालूम करो और जब वह मिल जाए तो मुझे समाचार दो ताकि मै भी आकर उस बालक को प्रणाम करू. प्रभ यीशु जन्म से राजा कहलाये . यहा जो ज्योतिषी ( विद्वान् पुरुष ) विभिन्न देशो से आए थे इन्हें नक्षत्रो का अत्यधिक ज्ञान था. वे राजा की बात सुनकर चले गये  जो तारा उन्होंने पूर्व में देखा था वह उनके आगे-आगे  चला और  जहा बालक था. उस जगह के उपर पहुचकर ठहर गया. उस तारे को देखकर वे अति आनन्दित हुवे. उन्होंने उस घर में पहुचकर उस बालक को उसकी माता मरियम के साथ देखा और मुह के बाल गिरकर बालक यीशु को प्रणाम किया और अपना-अपना ठेला खोलकर उसको सोना, लोबान और ग- धरस की भेंट चढाई प्रभु यीशु मसीह का जन्म कुवारी मरियम से हुआ. देवीय सामर्थ्य स्व हुआ. प्रभु यीशु मसीह पूर्ण परमेश्वर थे. वे पूर्ण मनुष्य भी थे. उनका जन्म अदभुत व पवित्र था उसके सांसारिक पिता जेसे हमारे होते है नही थे. युसूफ जोसफ उनके संवरक्षक के रूप में पिता कहलाए. प्रभु यीशु क्राइस्ट जन्म से मुत्यु व मुतको में से जी उठने व स्वर्गोरहण तक पूर्ण पवित्र थे।


ज्योतिषियों को स्वप्न में यह चेतावनी मिली की हेरोदेस के पास न जाना वे दुसरे मार्ग से अपने देश को चले गये तब मरियम व युसूफ बालक यीशु को लेकर मिश्र को चले गये. हेरोदेस रजा ने यह देखा की ज्योतिषियों ने उसके साथ  है. तब क्रोध से भर गया और लोगो को भेजकर आस-पास के सब स्थानों के सब लडको को जो 2 वर्ष के या उससे छोटे थे मरवा डाला. और उस देश में कितने गड़ेरिये ( चरवाहे Ship Leader ) थे जो रात को मैदान में रहकर अपने झुण्ड का  फर देते थे वे भेड़ो के झुण्ड का फर दे रहे थे. ओए प्रभु का एक दूत ( Angel )उनके पास खड़ा हुआ और प्रभु का तेज (Glory ) उनके चारो और चमका और वे बहुत डर गये. तब स्वर्गदूत  ने उनसे कहा “ मत डरो क्योंकि देखो मै तुम्हे बड़े आनन्द का सुसमाचार सुनाता हु. जो सब लोगो के लिए होगा की आज दाउद के नगर मै  बेतलहम मै तुम्हारे लिए एक उदारकर्ता जन्मे है यही मसीह प्रभु  है. और इनका तुम्हारे लिए यह पता है. की तुम एक बालक को  कपड़े में लिप्त और चरनी में पड़ा पाओगे, और एक उस स्वर्गदूत के साथ स्वर्गदूतो का दल परमेश्वर की स्तुति करते हुए दिखाई दिया. and suddenly there was with the angel a multitude of heavenly lost praising God and saying " Glory to God in the highest and on earth peace among those with whom he is pleased. आकाश में परमेश्वर की महिमा और पृथ्वी पर उन मनुष्यो में जिसने वह प्रसन्न है. शान्ति हो. तब स्वर्ग दूत उनके पास से स्वर्ग को चले गये तो गड़ेरिये ने आपस में कहा, आओ हम बेतलहम जाकरयह बात जोहई हे और जिसे प्रभु ने हमे बताया है देखे “और उन्होंने तुरंत जाकर मरियम और युसूफ को और चरनी में उस बालक को पड़ा देखा. इन्हें देखकर उन्होंने वह बात जो उस बालक के विषय मै उनसे कहीं आश्चर्य किया. परन्तु मरियम ये सब बाते अपने मामें रखकर सोचती रही. और गड़ेरिये जेसा उनसे कहा गया था वेसा ही सुनकर और देखकर परमेश्वर की महिमा और स्तुतु करते हऐ लाओ गए।

प्रभु यीशु मसीह को अनेक नाम दिए गये 1 –यीशु Jesus जिसका अर्थ उदारकर्ता व अपने लोगो को पापो से छुड़ाने वाला. 2. इम्मानुएल जिसका अर्थ परमेश्वर हमारे साथ है. 3. शांति का राज कुमार 4. अदभुत युक्ति करने वाला 5. मसीद – अभिव्यक्ति 6. पराक्रमी परमेश्वर 7.- अनन्त काल का पिता इत्यादि....

Completed
holi
गुजराती मेवाड़ा सुथार समाज की खेलकूद प्रतियोगिताएं
25-12-2018 to 30-12-2018

गुजराती मेवाड़ा सुथार समाज के आठ चोखरा बांसवाड़ा-डूंगरपुर की क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन पथोक चोखरा के तत्त्वावधान में 25 से 30 दिसम्बर तक बांसवाड़ा के राउमावि तलवाड़ा के खेल मैदान में होगी। इसके साथ ही महिलाओं के लिए कुर्सी दौड़, रंगोली एवं मेहन्दी प्रतियोगिता होगी। महिला एवं पुरुष दोनों वर्गों के लिए ‘विश्वकर्मा समाज विकास हेतु मेरे प्रयास’ विषयक निबंध प्रतियोगिता का भी आयोजन होगा।

विश्वकर्मा गुजराती मेवाड़ा, सुथार सेवा संस्था पथोक चोखरा द्वारा आयोजित क्रिकेट प्रतियोगिता का उद्घाटन समारोह राउमावि तलवाड़ा के खेल मैदान में 25 दिसम्बर को प्रातः 10 बजे होगा। समापन समारोह एवं पुरस्कार वितरण समारोह 30 दिसम्बर को दोपहर 12 बजे होगा।

Completed
holi
वेगड़ा कलाल समाज की 24 वी जिला स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता
24-12-2018 to 30-12-2018

वेगड़ा कलाल समाज की 24 वी जिला स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता गुलाब जी चाचाजी की स्मृति में सज्जनगढ़ में 25 दिसंबर से राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में आयोजित होंगी,जिसमे क्रिकेट व वालीवाल के अलावा चित्रकला,नाटक,कविता व सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता होंगी

Completed
holi
अटल बिहारी वाजपेयी जन्मदिन
25-12-2018

इस तारीख को भारतीय राजनीति के शिखर पुरुष अटल बिहारी वाजपेयी का जन्मदिन है।

कवि, पत्रकार और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 1924 में आज ही मध्यप्रदेश में हुआ था। ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज से स्नातक किया। राजनीति शास्त्र में स्नातकोत्तर के लिए कानपुर के डीएवी कॉलेज गए। यहां उनके पिता ने भी दाखिला लिया और दोनों हॉस्टल के एक ही कमरे में रहते थे। 1942 में 16 साल की उम्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सक्रिय सदस्य बने। 1951 में बनीं जनसंघ पार्टी के संस्थापक सदस्यों में एक रहे। 1975 में लगी इमरजेंसी के दौरान जेल गए। 1977 में विदेश मंत्री होने के नाते उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा में हिंदी में भाषण दिया। ऐसा करने वाले वह पहले भारतीय नेता थे। वे वीर रस के कवि थे। उनकी कविताएं निराशा और अंधकार में उम्मीद और रोशनी की लौ जलाती हैं। तीन बार प्रधानमंत्री

अटल जी ने 1999 में पाकिस्तान की सेना और आतंकवादियों द्वारा कारगिल की चोटियों पर कब्जा किए जाने के बाद जून में ऑपरेशन विजय को हरी झंडी दी। तमाम प्रतिबंधों के बावजूद 1998 में पोखरण परीक्षण कराकर खुद को साहसी और सशक्त नेता के तौर पर स्थापित किया। 1992 में पद्म विभूषण और 2015 में भारत रत्न से सम्मानित किए गए। 16 अगस्त, 2018 को दुनिया को अलविदा कह गए।

Completed
Advertisement

  • Job in Banswara

    बांसवाडा में मार्केटिंग नौकरी प्राप्त करने के लिए संपर्क करे 9413214785


Top Stories