Banswara HelloBanswara
Business

February, 2018

SunMonTueWedThuFriSat
1
6
7
8
9
10
11
12
15
16
17
20
21
22
23
24
26
27
28

Event List

holi
आरोग्य मेला
02-02-2018 to 05-02-2018

बांसवाड़ा में संभाग स्तरीय आरोग्य मेला आज से
कुशलबाग मैदान में जुटेंगे प्रदेशभर के आयुर्वेदाचार्य

बांसवाड़ा, 1 फरवरी/आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा विभाग द्वारा संभाग स्तरीय आरोग्य मेला शुक्रवार से प्रारंभ होगा।   


उपनिदेशक डॉ. अजीत गांधी ने बताया आरोग्य मेला कुशलबाग मैदान में 2 से 5 फरवरी को प्रातः 11 से रात 8 बजे तक रहेगा। मेले का उद्घाटन शुक्रवार को प्रातः 11.30 बजे होगा। जिसमें पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास राज्यमंत्री धनसिंह रावत मुख्य अतिथि व जिला प्रभारी मंत्री सुशील कटारा विशिष्ट अतिथि होंगे। इस अवसर पर जिला कलक्टर भगवती प्रसाद एवं नगरपरिषद सभापति मंजूबाला पुरोहित भी मौजूद रहेंगे।

 

मेला प्रभारी डॉ. घनश्याम भट्ट ने बताया कि मेला अवधि में प्रातः 7 से 8 बजे प्राकृतिक चिकित्सालय उदयपुर के डॉ. विद्या आचार्य द्वारा योगाभ्यास कराया जाएगा। मेले में विशेषज्ञों द्वारा योग क्रियाओं का प्रदर्शन एवं विभिन्न रोगों के लिए व्यक्तिगत योग निर्देशन, आयुष औषधियों, जड़ी-बूटी उत्पादों की बिक्री, औषधीय पादपों का प्रदर्शन, विशेषज्ञों द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण एवं चिकित्सा परामर्श, स्वास्थ्य संबंधित विषयों पर व्याख्यात, पंचकर्म व क्षारसूत्र चिकित्सा परामर्श, मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य की जानकारी, जरावस्था जन्य व्याधियों का उपचार, निःशुल्क औषध वितरण आकर्षण का केन्द्र रहेंगे।


मेले के उद्घाटन के उपरांत दोपहर 12.30 बजे म.मो.मा. राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय उदयपुर के प्राचार्य  प्रोफेसर डॉ. महेश दीक्षित द्वारा वर्तमान परिप्रेक्ष्य में आयुर्वेद की उपलब्धियां, संभावनाएं व चुनौतियां विषयक व्याख्यान दिया जाएगा। दोपहर 2 बजे म.मो.मा. राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय उदयपुर के रस शास्त्र विभाग के प्रो. बाबुलाल सेनी द्वारा चिकित्सकीय स्तर पर औषध निर्माण विषयक व्याख्यान दिया जाएगा। शाम 6 से 8 बजे सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। मेले के दूसरे दिन 3 फरवरी शनिवार को प्रातः 11.30 बजे राजसमन्द गायत्री परिवार की उपजोन प्रभारी श्रीमती आशा द्विवेदी द्वारा पुंसवन संस्कार की वैज्ञानिकता एवं वर्तमान आवश्यकता विषयक तथा दोपहर 2 बजे डॉ. राजेश वसाणिया द्वारा होम्योपैथी से चर्मरोग निवारण विषयक व्याख्यान दिया जाएगा। 4 फरवरी रविवार को प्रातः 11.30 बजे राजकीय आयुर्वेद औषधालय दिवड़ा छोटा के क्षारसूत्र विशेषज्ञ डॉ. सुभाष भट्ट द्वारा क्षारसूत्र शल्यकर्म विडियो प्रदर्शन, प्रश्नोत्तरी एवं उपकरणों का विसंक्रमण विषयक तथा दोपहर 2 बजे प्रो. डॉ. सतीश कुमार शर्मा द्वारा वागड़-मेवाड़ की वनौषधि पौध विरासत: उपयोगिता, उपलब्धता एवं संरक्षण उपाय पर जानकारी दी जाएगी। 5 फरवरी सोमवार को प्रातः 11.30 बजे कोटा चिकित्सालय के वैद्य दाऊदलाल जोशी व प्रभारी चिकित्साधिकारी वैद्य मृगेन्द्र जोशी द्वारा आयुर्वेद में शल्य चिकित्सा तथा राजकीय यूनानी दवाखाना डूंगरिया बांसवाड़ा के चिकित्सा अधिकारी डॉ. नदीम अख्तर द्वारा श्वास रोग व एलर्जी जनित रोगों में यूनानी दवाओं की प्रभावशीलता विषयक वार्ता दी जाएगी। दोपहर 3 बजे से समापन समारोह होगा।
--------

Completed
holi
दो दिवसीय रोजगार मेला
04-02-2018 to 05-02-2018

बांसवाड़ा में दो दिवसीय रोजगार मेला 4 फरवरी से

बांसवाड़ा, 1 फरवरी/ जिला रोजगार कार्यालय में आगामी 4 फरवरी से दो दिवसीय रोजगार मेला प्रातः 10 बजे से शाम 4 बजे तक लगाया जाएगा।


जिला रोजगार अधिकारी ने बताया कि 4 व 5 फरवरी को रोजगार मेले में जी.के. सिक्यूरिटी सर्विस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी बड़ौदा द्वारा दसवी से स्नातक पास कम से कम 18 वर्ष व अधिकतम आयु 35 वर्ष तक के आशार्थियों का साक्षात्कार लिया जाएगा। मौके पर ही उपस्थित इच्छुक बेरोजगार युवकों का साक्षात्कार लेकर प्रारम्भिक चयन किया जाएगा। आशार्थियों को बड़ौदा, हालोल, अहमदाबाद के लिए चयन किया जाएगा। साथ ही चयनित अभ्यर्थियों को कम्पनी द्वारा विभिन्न सुविधाएं भी दी जाएगी। आशार्थी साक्षात्कार में अपने साथ योग्यता के मूल प्रमाण पत्र, अंक सूचिया मय छाया प्रतियां के जाति प्रमाण पत्र, फोटो पहचान पत्र, राशन कार्ड, मूल निवास प्रमाण पत्र लेकर आए। इसमें किसी भी प्रकार का यात्रा भत्ता देय नहीं होगा

Completed
holi
महाशिवरात्रि
13-02-2018

हिन्दू मान्यता के अनुसार संसार का हर वो कण कण जिनसे वो कण कण उत्पन्न हुवा है, संसार विधमान जो भी उर्जा है वो उन्ही से, वो निराकार निरंजन भोलेनाथ महादेव जिनका सबसे प्रिय दिन महाशिवरात्रि जिसे श्रद्धालु बड़े ही धूम धाम से मानते है, और आज इसलिए पुरे भारत में सबसे ज्यादा मंदिर महादेव के ही है, श्रद्धालु उन्हें निराकार में शिवलिंग के रूप में पूजते है और आकर में उन्हें मूर्ति में पूजते है.

 

शिवरात्रि पूजा हेतु हर कृष्ण पक्ष त्रियोदशी को मनाई जाती है, और अगले दिन सूर्य उदय पश्चात चतुर्दशी होनी चाहिए और महाशिवरात्रि इसी तिथि में फागुन मास में मनाई जाती है ! 

 

फागुन वर्ष का अंतिम मास है, तथा नव वर्ष मंगलमय हो इसकी कामना वर्ष के अंतिम मास में ही होती है, इसलिए महाशिवरात्रि का यह महत्व है महादेव को भी ये दिन बहुत प्रिय है, और इसी दिन महादेव ने माता पार्वती से पाणिग्रहण किया था. भगवान शिव, जो कि वैरागी हैं और योगी भी है, का विवाह एक अत्यंत सुंदर, सुशील राजकुमारी के साथ तब संभव हो पाया जब माता पार्वती सब भौतिक सुख त्याग कर शिव को पाने कि प्रबल इच्छा व्यक्त कर के, तप कर के, शिव को विवाह के लीये प्रेरित कर पाई. भगवान शिव के विवाह को श्रृष्टि की प्रगति और विकास के लिए लाभकारी मानते हूए श्रधालु बड़ी धूमधाम, और जोश से इस पर्व को मनाते हैं महाशिवरात्रि के रूप में मानते है.

 

जटाओं में गंगाजी को धारण करने वाले, सिर पर चंद्रमा को सजाने वाले, मस्तक पर त्रिपुंड तथा तीसरे  नेत्र वाले ,कंठ में कालपाश (नागराज) तथा रुद्रा- क्षमाला से सुशोभित, हाथ में डमरू और त्रिशूल है जिनके और भक्तगण बड़ी श्रद्दा से जिन्हें  शिवशंकर, शंकर, भोलेनाथ, महादेव, भगवान् आशुतोष, उमापति, गौरीशंकर, सोमेश्वर, महाकाल, ओंकारेश्वर, वैद्यनाथ, नीलकंठ, काशीविश्वनाथ, त्र्यम्बक, त्रिपुरारि, सदाशिव तथा अन्य सहस्त्रों नामों से संबोधित कर उनकी पूजा-अर्चना किया करते हैं ऐसे भगवान् शिव एवं शिवा हम सबके चिंतन को सदा-सदैव सकारात्मक बनायें एवं सबकी मनोकामनाएं पूरी करें |

ॐ नमः शिवाय ! 

Completed
holi
श्रधांजली दिवस
13-02-2018

श्रधांजली दिवस 13 फरवरी 2018 (विक्रम संवत 2074) सांय 4 बजे पूर्व संध्या पर गाँधी मूर्ती बांसवाडा

 हर वर्ष की भांती इस वर्ष भी हरि ॐ ग्रुप की तरफ से 14 फरवरी इतिहास का काला दिवस के रूप में मनाने हेतु 13 फरवरी को सांयश्रधांजली दिवस के रूप में मनाया जायेगा| 
भारत माता के अमर अपुत शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को कभी सम्मान नहीं मिला और उन्हें देशद्रोही, राष्ट्रविरोधी माना गया| ये राष्ट्रभक्त थे भारत की सोई जनता को जगाने वाले, अंग्रेजी सल्तनत को हिलाने वाले क्रांतिकारी देशभक्त थे जिन्हें देशद्रोही कह कर फांसी के फंदे पर लटका दिया गया|

वेलेंटाइन डे के नाम पर भारतीय संस्कृति और सभ्यता पर प्रहार करने वाली विधर्मी ताकतों को जवाब देने हेतु इन शहीदों को याद कर श्रधांजली देकर हम कृतज्ञ है|
 गुलाब के फुल और प्यार के इजहार के दिन के रूप में हमारी संस्कृति को कमजोर कर दुश्मनी ताकते हमारे देश के युवक युवतियों को दिशा भ्रमित कर रही है| इसलिए यह कार्यक्रम वर्तमान काल की जरूरी आवश्यकता है|

 हम शहादत को याद करें प्रतिवर्ष 14 फरवरी को भगत सिंह, सुखदेव राजगुरु व और भी शहीदों को याद कर उन्हें श्रधांजली स्वरूप पुष्प अर्पित कर दीपदान कर आने वाली पीढ़ी को पुन: भारतीय संस्कार प्रदान करे|

पाश्चात्य मनोरंजन के नाम पर हमारी युवा पीढ़ी को खोखला कर रही है इस दिशा में सामूहिक प्रयास की निरंतर आवश्यकता है|

उक्त कार्यक्रम हरि ॐ ग्रुप के संयोजन की भूमिका से हो रहा है| इस कार्यक्रम को सार्वजनिक कर सभी की भागीदारी एवं प्रयासों से सहयोग की मांग है| इसलिए सभी सामजिक संगठनो स्वंय सेवी संस्थाओ मात-शक्ति संगठनो सेवा प्रकल्पो से जुडी संस्थाओं से निवेदन है की इस प्रकार से हम एक-दुसरे के पूरक बनकर सहभागी बने| राष्ट्र कार्य जहां भी हो हम सभी आगे आकर सहभागी दर्ज करावें|

हरि ॐ ग्रुप की स्थापना 2008, 31 मई अपरा एकादशी को हुई|
हरि ॐ सत्संग सेवा मंडल बांसवाडा शुरुआती समय में हनुमान कथा, भजन-कीर्तन, शोभायात्रा के माध्यम से धर्म जागरण का कार्य किया| 
फरवरी 2016 में पहली बार ग्रुप की मात्त्य शक्ति निशा जोशी द्वारा एक पोस्ट आई जिसमे यह जानकारी थी की 14 फरवरी के दिन अंग्रेजी शासनकाल में लाहोर की कोर्ट द्वारा शहीद भगत सिंह, सुखदेव एवं राजगुरु को फांसी की सजा सुनाई गई थी हम इन्हें याद कर तीनो भारत माता के अमर सपूतो को सार्वजनिक रूप में श्रधांजली देवे सभी ग्रुप सदस्यों की सहमती होने पर यह श्रधांजली कार्यक्रम प्रारम्भ हुआ|
14 फरवरी 2016 रविवार को प्रात: 11 बजे यह कार्यक्रम पहली बार गांधी मूर्ति पर हुआ|
दुसरे साल 13 फरवरी को 2017 को यह कार्यक्रम यथावत रूप से किया गया जिसमे सेवानिवृत भारतीय सेना के जवान और सेना में कार्यरत जवानो के परिजनों को मंच के माध्यम से सम्मानित किया गया|
13 फरवरी को इस श्रधांजली कार्यक्रम में तीन वर्ष होने को है|
 

Completed
holi
14 फरवरी श्रद्धांजलि दिवस
14-02-2018

14 February भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन के इतिहास का एक अत्यंत दू:खद और अविस्मर्णीय दिवस है। जब शहीद-ए-आजम भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु और आततायी अंग्रेजों द्वारा फंसी की सजा सुनाई गई।

भारत माता के सच्चे सपूत, जन्मजात देशभक्त इन तीन रत्नों के फंसी के एलन पर हर आँख रोई थी और लगा था मानों हजारों वर्षों तक इनके त्याग और बलिदान को भारतवासी याद करते रहेंगे। पर आज फरवरी को देश का माहौल आज उनके इस बलिदान को भूल चूका है इस दिन को सभी वैलेंटाइन के रूप में भी बनाते है जो पश्च्यात संकृति  का फेस्टिवल है जिसे भारत में युवा युवतिया और कुछ उम्रदराज के लोग भी मानते है, परन्तु इसी के मध्य आज देश के लिए जिन्होंने बलिदान दिया है उसे भूल चुके है, इस कारण युवा शत में वीरता और त्यागमय गौरवशाली अतीत का स्वाभिमान जागृत करना है तो इस दिन को शहीद दिवस के रूप में मानाने की आवश्यकता पड़ी।

चाणक्य का सन्देश भी है कि वो सभ्यता वो देश खत्म हो जाता है जो देश अपने इतिहास को भूल जाता है, इसलिए जिसने बलिदान दिया है हमारे देश के लिए वो हमारे लिए ही दिया है इसलिए उन्हें भूलने का मतलब ये है की हम कभी खुद का इतिहास नहीं बना पायेंगे।

Completed
holi
Mr. Banswara बॉडी बिल्डिंग चैम्पियन शीप
25-02-2018

 जिला बॉडी बिल्डिंग संघ द्वारा शहर की गाँधी मूर्ति पर बॉडी बिल्डिंग चेंपियनशीप का आयोजन किया जाएगा|

जिला बॉडी बिल्डिंग संघ द्वारा स्वर्गीय मनोज सिंह राठोड एवं स्वर्गीय गोविन्द सिंह भानु की स्मृति में एक भव्य Mr. Banswara बॉडी बिल्डिंग चैम्पियन शीप आगामी 25 फरवरी को शहर के गाँधी मूर्ति चौराहे पर आयोजित की जायेगी|
 
 

holi
निशुल्क मोतियाबिन्द ऑपरेशन शिविर
18-02-2018 to 19-02-2018

आदित्य फाउंडेशन और महात्मा गाँधी चिकित्सा  की तरफ से बांसवाडा में निशुल्क मोतियाबिन्द ऑपरेशन शिविर किया जा रहा है।

आदित्य फाउंडेशन सेवा समिति बांसवाड़ा जिला अंधता नियंत्रण समिति व् महात्मा गाँधी चिकित्सालय द्वारा विशाल निशुल्क मोतियाबिंद ऑपरेशन शिविर दिनांक 18 फरवरी 2018 को महात्मा गाँधी चिकित्सालय बांसवाड़ा लगाया जा रहा है ओपरेशन विशेषज्ञ डॉक्टर हरीश जी लालवानी एवम टीम द्वारा किये जायेंगे !

 

Camp 18/02/2017 Time 09:00 AM to 05:00 PM

Operation  19/02/2017  (MGH, Banswara)

Operation Place : MG Hospital, Banswara

 

For more information contact this no. (02962) - 251303, 9414101389

Advertisement

  • Job in Banswara

    बांसवाडा में मार्केटिंग नौकरी प्राप्त करने के लिए संपर्क करे 9413214785