वसंत पंचमी

Updated on February 10, 2019
वसंत पंचमी, Banswara "Vasant Panchami"
  • 10-02-2019

वसंत पंचमी या श्रीपंचमी एक हिन्दू त्योहार है। इस दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है। यह पूजा पूर्वी भारत, पश्चिमोत्तर बांग्लादेश, नेपाल और कई राष्ट्रों में बड़े उल्लास से मनायी जाती है। इस दिन स्त्रियाँ पीले वस्त्र धारण करती हैं।

प्राचीन भारत और नेपाल में पूरे साल को जिन छह मौसमों में बाँटा जाता था उनमें वसंत लोगों का सबसे मनचाहा मौसम था। जब फूलों पर बहार आ जाती, खेतों में सरसों का सोना चमकने लगता, जौ और गेहूँ की बालियाँ खिलने लगतीं, आमों के पेड़ों पर बौर आ जाता और हर तरफ़ रंग-बिरंगी तितलियाँ मँडराने लगतीं। वसंत ऋतु का स्वागत करने के लिए माघ महीने के पाँचवे दिन एक बड़ा जश्न मनाया जाता था जिसमें विष्णु और कामदेव की पूजा होती, यह वसंत पंचमी का त्यौहार कहलाता था। शास्त्रों में बसंत पंचमी को ऋषि पंचमी से उल्लेखित किया गया है, तो पुराणों-शास्त्रों तथा अनेक काव्यग्रंथों में भी अलग-अलग ढंग से इसका चित्रण मिलता है।

April, 2019
SMTWTFS
31
1
2
3
4
5
6
7
8
9
10
11
12
13
14
15
16
17
18
19
20
21
22
23
24
25
26
27
28
29
30
1
2
3
4

सरकारी स्कूल के शिक्षक ने खाया विशाख्त पदार्थ, इलाज के दौरान मौत

22-04-2019

राहुल गांधी ने माना: सुप्रीम कोर्ट ने नहीं कहा था 'चौकीदार चोर है', अपने बयान पर जताया खेद

22-04-2019

सेमलिया के पास टूटी पुलिया से कार बेकाबू हाेकर पलटी

22-04-2019

खाद्य पदार्थों पर शुद्ध का मतलब नहीं लिखा तो 10 लाख जुर्माना

22-04-2019

विश्व पृथ्वी दिवस पर जिला स्तरीय संगोष्ठी आज, गोटियो ने दिया जल व पृथ्वी संरक्षण का संदेश

22-04-2019

नदी के पुल पर महिला को बचाने में स्कूटी सवार गिरा, मौत

22-04-2019

बांसवाड़ा में सतरंगी सप्ताह जारी, बैंड वादन के साथ दिया मतदान का संदेश

22-04-2019

तलवाड़ा में आज 4 घंटे बिजली बंद रहेगी

22-04-2019